Posts

हम, हमारा इश्क़

हमारे दिल पर राज करना हक़ था उनका,
हम उनसे बेइतहां प्यार करते थे;
फिर भी उन्हें हम पर शक था थोड़ा थोड़ा,
छोड़ कर जब जाना ही था उनको;
अपनी ज़िन्दगी में किसी और को लाना ही जब उनको,
तो क्या उनका मकसद;
सिर्फ इश्क़ में बदनाम करना था हमको।

जो कभी बहारों की खुश्बुओं में ना हों सोये,
क्या उड़ाएंगे उनकी नींद जहां के ये ज़हरीले धुँए,
उम्र तो कम है मेरी मगर इतना जान चुके हूं,
ज़िन्दगी में जिन्हें चाहा सबसे ज्यादा;
साथ उनके ही सबसे पहले हैं छूटे।

मैं तुझसे प्यार करता हूं….

मैं तुझसे प्यार करता हूं; मैं तुझसे प्यार करता हूं,

तू मेरे पास जब तक है तेरा दीदार करता हूं,

तेरी खुशबू के साये मैं ये जान निसार करता हूं,

ना हूं भले ही पास तेरे तुझे हर पल याद करता हूं,

ये ज़िन्दगी नाम तेरे कर दी तुझे अपना मालिक समझता हूं,

तेरी खामोशी सजा मुझे लगती है;

तेरी मुस्कुराहट को अपना इनाम समझता हूं,

ना हो सकेगी तू कभी मेरी मैं ये भी जानता हूं,

मैं तुझे कल भी प्यार करता था 

मैं तुझे आज भी प्यार करता हूं।

To be continued…. In next post

प्रेमी शायर…… Mr. Krishna Kumar

जो झख्म उसने दिये पता नहीं क्यों आज उन्हें भूलने का दिल करता है,

उसका पास न होकर भी पास होने का अहसास होता है,

जो मुझसे नफरत करता है क्यों आज उस पर दिल लुटाने का मन करता है,

माना कि वो मेरी नहीं हो सकती पर,

उसके साथ आज एक पल में पूरी जिन्दगी जीने का मन करता है।